Uncovering the Dark Side of Chat GPT – Risks & Opportunities

423

Chat GPT क्या है यह तो आप सभी जानते ही होंगे और अभी तक आपने उसकी विशेषताओं के बारे में भी सुना होगा लेकिन क्या आपको Chat GPT के Dark Sides पता हैं? यदि आप नहीं जानते कि Artificial Intelligence के एक बेहतरीन परिणाम Chat GPT के कुछ नुकसान भी हैं तो यह आर्टिकल आपको अंत तक जरूर पढना चाहिए क्योंकि इस आर्टिकल में हम आपको Dark Side of Chat GPT से related विस्तारपूर्वक जानकारियां देने वाले हैं |

Defining Chat GPT and its Dark Side

जैसा कि आप जानते हैं कि चैट जीपीटी एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टूल है जो मनुष्य द्वारा दी जाने वाली commands के आधार पर उनसे बात करता है और उनके द्वारा पूछे गए सवालों के जबाबों को स्वतः उत्तर देने के लिए सक्षम है | आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के इस मॉडल की खास बात यह है कि यह तेजी से विकसित हो रहा है और संभवतः भविष्य में विशाल रूप में उपयोग किया जायेगा |

माना यह जा रहा है कि चैट जीपीटी के +ve पहलुओं के साथ साथ इसके कुछ नकारात्मक पहलू भी हो सकते हैं जो कि Dark Side of Chat GPT हैं | अनुमानित है कि इसमें डेटा की भावनात्मक बिना पर स्टीरियोटाइप के रूप में संबंधित जाति, धर्म, लिंग और अन्य पहलुओं का उपयोग हो सकता है और चैट जीपीटी का दुरूपयोग किया जा सकता है जो कि उपयोगकर्ताओं और समाज को भरी नुकसान पहुंचा सकता है |

Dark Side of Chat GPT पर विस्तृत चर्चा करना महत्वपूर्ण है ताकि हम इस नई तकनीक के साथ संबंधित संभव नुकसानों को समझ सकें और आवश्यक कदम उठा सकें जो सामाजिक न्याय और न्यायक्षेत्र के साथ एकत्रित होते हैं |

Dark Side of Chat GPT जो कि नुकसान के रूप में दिखाई देते हैं

जहाँ पर Chat GPT लोगों का काम आसान कर रहा है और उनके समय की बचत कर रहा है वहीँ पर उसका दूसरा पहलू यह भी है कि इसके कुछ नुकसान भी हैं जिन्हें जानना इसके उपयोगकर्ताओं के लिए अति आवश्यक है |

  • अगर आप यह सोचते हैं कि Chat GPT आपको हमेशा ही सही उत्तर प्रदान करता है तो आपका यह सोचना बिल्कुल ही गलत है क्योंकि कुछ स्थितियां ऐसी भी होती हैं जब Chat GPT गलत उत्तर प्रदान कर सकता है और इसका कारण Chat GPT से अस्पष्ट प्रश्न पूछा जाना है
  • जैसा कि आप यह तो जानते ही होंगे कि आपको उत्तर देने के लिए Chat GPT इन्टरनेट से ज्ञान प्राप्त करता है इसलिए यदि Reference गलत हो तो चैट जीपीटी गलत जबाब दे सकता है
  • Chat GPT का database बहुत ज्यादा विशाल है जिसके आधार पर यह काम करता है किन्तु database के विशाल होने पर भी इसके पास कुछ विषयों पर उनके समाधान की कमी है और यही कारण है कि चैट जीपीटी के अपर्याप्त ज्ञान होने के कारण यह समस्याओं के समाधान के लिए असमर्थ हो सकता है
  • चैट जीपीटी का यदि आप इस्तेमाल कर रहे हैं तो इसका मतलब यह है कि आप अपनी निजी जानकारी चोरी होने की सम्भावना को बढ़ा रहे हैं क्योंकि चैट जीपीटी उपयोगकर्ता के प्रश्नों के उत्तर देने के लिए अपनी डेटा को संग्रहित करता है, यदि कोई अनधिकृत व्यक्ति इस डेटा तक पहुंच प्राप्त करता है, तो वह उपयोगकर्ता की निजी जानकारी को चुनौती दे सकता है
  • चैट जीपीटी को अंग्रेजी भाषा में प्रोग्राम किया गया है इसलिए एक सम्भावना यह भी है कि यदि आप इससे अंग्रेजी के अलावा अन्य भाषा में सवाल पूछते हैं तो यह उसका सही जबाब ना दे पाए

Risks of Chat GPT in Hindi

  1. Bias and Prejudice
  2. Privacy Concerns
  3. Misinformation

Bias and Prejudice

Chat GPT एक ऐसा प्रोग्राम है जो किसी भी विषय के बारे में सीखने में सक्षम है और इसकी खास बात यह है कि इसे प्रशिक्षण डाटा के रूप में दिया जाता है | यदि ट्रेनिंग के दौरान डेटा में लिंग-विषयक या जातिवादी भाषा का प्रयोग होता है तो चैट जीपीटी द्वारा इस भाषा को अपने जबाबों में दोहराने की सम्भावना होती है और ऐसा होने से चैट जीपीटी के उत्तर में बाइएस और प्रीजडिस की समस्या उत्पन्न हो सकती है |

इस तरह के बाइएस और प्रीजडिस चैट जीपीटी के उत्तरों को गलत बना सकते हैं जो कि किसी भी उपयोगकर्ता के लिए हानिकारक हो सकता है | इसलिए, इस तरह के समस्याओं को नियंत्रित करने के लिए चैट जीपीटी के लिए स्पष्ट नैतिक दिशा-निर्देश विकसित करने की आवश्यकता होती है |

Privacy Concerns

अगर आप Chat GPT का इस्तेमाल कर रहे हैं तो Dark Side of Chat GPT के रूप में आपको एक खतरा गोपनीयता का भी हो सकता है क्योंकि चैट जीपीटी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित एक ऐसा AI system है जो उपयोगकर्ताओं के टेक्स्ट और उत्तरों को संग्रहित करता है और जिसका मतलब यह है कि chat gpt आपके द्वारा पूछे जाने वाले सवालों और उनके सुझावों को अन्य उपयोगकर्ता द्वारा पूछे गए सवालों के जबाब के रूप में कभी भी दे सकता है |

इस दौरान यदि उपयोगकर्ता अपनी निजी जानकारी को साझा करता है तो उसका उपयोग विज्ञापन या अन्य उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, इसलिए यदि उपयोगकर्ता नहीं चाहता है कि उनकी चैट डेटा को उपयोग करके उन्हें निजी या संदर्भात्मक सुझाव दिए जाएं, तो उन्हें अपनी चैट डेटा को साझा नहीं करना चाहिए |

आपके लिए हमारी ओर से बस एकमात्र यह सुझाव है कि जब भी आप चैट जीपीटी का इस्तेमाल कर रहे हैं गोपनीयता की रक्षा करने हेतु अपनी निजी जानकारियां आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित AI system को कभी ना दें |

Misinformation

यह तो आप जानते ही होंगे कि चैट जीपीटी एक एआई भाषा मॉडल है जो टेक्स्ट के आधार पर उत्तर तैयार करता है और इसका मतलब यह है कि यदि यह एक असत्य या अप्रमाणिक स्रोत से जानकारी प्राप्त करेगा, तो यह मिसइनफार्मेशन उत्पन्न कर सकता है और इस तरह की जानकारियां गलत या भ्रामक साबित हो सकती हैं, जो उपयोगकर्ता को गलत दिशा में ढकेल सकती हैं |

चैट जीपीटी का उपयोग करते समय, उपयोगकर्ताओं को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनकी स्रोतों की जाँच की जाए ताकि वे सत्य और विश्वसनीय जानकारी प्राप्त कर सकें | इसके अलावा, उपयोगकर्ताओं को चैट जीपीटी द्वारा उत्पन्न किए गए उत्तरों में संभवतः विपरीताभास या असत्य जानकारी की भी जाँच करनी चाहिए |

Conclusion

जैसा कि Chat GPT एक AI Based Language Model है जो कि new technology पर आधारित है जिसके कई advantages हैं लेकिन साथ ही साथ इसके कुछ नुकसान भी हैं जिन्हें आपने The Dark Side of Chat GPT के रूप में जाना और सम्बंधित information collect की | आशा करते हैं कि उपरोक्त यह जानकारी आपको पसंद आई होगी और यदि आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो इस लेख को शेयर अवश्य करें |

आपका एक शेयर हमारे लिए बहुत कीमती है क्योंकि जब भी आप हमारा कोई article शेयर करते हैं तो हमें इस तरह के अन्य उपयोगी लेखों को लिखने की प्रेरणा और प्रोत्साहन मिलता है और हम आपके लिए नए नए लेख लिखते रहते हैं |

Previous articleGPT-4 को Free Without ChatGPT Plus Subscription लिए Access कैसे करें?
Next articleGood Morning Images वाली Image Website Kaise Banate Hai?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here