Artificial Intelligence: The Future of Technology and Innovation [Advancements and Applications in Hindi]

477

Artificial Intelligence को Future of Technology and Innovation कहा जाये तो यह बिल्कुल भी गलत नहीं होगा और आज का यह लेख AI यानि कृत्रिम बुद्धिमत्ता से सम्बंधित ही होने वाला है जिसे पढ़कर आप कई सारी महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त करेंगे |

Artificial Intelligence क्या है [What is Artificial Intelligence in Hindi]

Artificial Intelligence (AI) कंप्यूटर विज्ञान की एक शाखा है जिसमें मानव-जैसी बुद्धिमत्ता और सृजनशीलता के संबंध में अध्ययन किया जाता है | इसमें कंप्यूटर प्रोग्राम को इस कदर तैयार किया जाता है कि वह काफी कम समय में ताकतवर निर्णय ले सके, स्वयं सीख सके और अधिक संचारात्मक हो सके |

What is Artificial Intelligent in hindi

यह एक ऐसी तकनीक है जो database का उपयोग करते हुए स्वयं सीखती है और फिर उस डेटा का उपयोग करके query के रूप में पूछे जाने वाली समस्याओं का समाधान करती है | Artificial Intelligence को उच्च स्तर की मानव बुद्धि के साथ नियंत्रित किया जा सकता है जो कंप्यूटर को सोचने, समझने, सीखने और समस्याओं का हल निकालने की शक्ति देती है | AI अनुशासनीय संगठित डेटा का उपयोग करते हुए संचालित होता है जो इसे मानव अनुभव की तुलना में अधिक तेज और सक्षम बनाता है |

Artificial Intelligence के बारे में संक्षिप्त जानकारी पढ़कर आपको भी लगा होगा कि यह एक interesting topic है और इसके बारे में थोडा विस्तार में जानकारी होनी चाहिए इसलिए आपके लिए हम लेकर आये हैं एक All in One Revolutionary Article जहाँ पर आपको मिलेगी AI से सम्बंधित सम्पूर्ण विस्तारपूर्वक जानकारी | अगर आप Up to date रहना चाहते हैं और Artificial Intelligence: The Future of Technology and Innovation की Advancements और Applications को समझना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें |

यह भी पढ़ें :- Artificial Intelligence के बेहतरीन नमूने Chat GPT के बारे में पढ़ें [What is Chat GPT in Hindi]

कहाँ होता है Artificial Intelligence का उपयोग (Applications)?

आज के समय में AI का उपयोग प्रत्येक क्षेत्र में संभव है जिसका एक उदाहरण Chat GPT भी है लेकिन यहाँ पर हां आपको AI के मुख्य उपयोगों के बारे में अवगत करवाना चाहते हैं –

  • AI का इस्तमाल करके आप अपने काम की efficiency बढ़ा सकते हैं क्योंकि AI आपके काम की गति को बढ़ा देता है और आपका समय भी कम लेता है और जिस काम में कम समय लेकर ज्यादा काम हो सके वहां पर उत्पादकता बढ़ जाती है
  • चिकित्सा के क्षेत्र में AI का बढ़िया उपयोग किया जा सकता है और इससे स्वास्थ्य सेवाएँ बढ़िया हो सकती हैं जैसे कि निदान और उपचार में अधिक सुविधाएं और बेहतर रोगी की देखभाल
  • AI का उपयोग कर वित्तीय सेवाओं को सुविधाजनक बनाया जा सकता है क्योंकि AI की मदद से आप Automatic Investment कर सकते हैं और Marketing decisions आसानी से ले सकते हैं
  • AI की मदद से Non-profit Organizations में कार्य प्रणाली को सुधारा जा सकता है और साथ ही साथ कार्य प्रणाली को स्वचलित भी बनाया जा सकता है

कृत्रिम बुद्धिमत्ता के फायदे (Advantages of Artificial Intelligence)

  • AI एक ऐसा Computer Program है जो ताकतवर निर्णय ले सकता है और यदि इस प्रोग्राम की तुलना मनुष्य से की जाए तो यह मानवों से कई ज्यादा तेज होते हैं
  • AI पर आधारित Computer Program स्वतंत्र रूप से सीखने की क्षमता रकते हैं और बिना मानव संचार के त्वरित रूप से सुधार कर सकते हैं
  • AI ने विभिन्न क्षेत्रों में बेहतर सेवाएं प्रदान करने में मदद की है और वे संभवतः स्वयं संचालित वाहनों, स्वास्थ्य सेवाओं और वित्तीय सेवाओं इत्यादि में इस्तेमाल किये जाते हैं
  • AI संचार को अधिक संचारात्मक बनाते हैं, जिससे संचार की गति तेज हो जाती है

कृत्रिम बुद्धिमत्ता के नुकसान (Disadvantages of Artificial Intelligence)

यह तो आप जानते ही होंगे कि Technology क्या है? आसान शब्दों में कहा जाए तो टेक्नोलॉजी की मदद से मनुष्य संभवतः प्रत्येक कार्य को आसानी से कर सकता है |आज के समय में प्रयोग होने वाले उपकरण तथा सर्विसेज जैसे मोबाइल, कम्प्यूटर, इन्टरनेट, मोटरकार इत्यादि सभी टेक्नोलॉजी के ही उदाहरण हैं | जिनकी बजह से मनुष्य का जीवन अत्यधिक सरल तथा सुखद हो गया है |

लेकिन यह कहना बिल्कुल भी अनुचित नहीं होगा कि जहाँ पर Technology एक वरदान है तो दूसरे पहलू से देखा जाए तो यह एक अभिशाप भी है और प्रत्येक technology में गुणों के साथ साथ उसके अवगुण भी छुपे हुए होते हैं |

यहाँ पर हम Technology पर आधारित Artificial Intelligence से सम्बंधित Disadvantages के बारे में जानेंगे –

  • AI सिस्टम व्यक्तिगत निजता की समस्याओं से ग्रस्त हो सकते हैं | उदाहरण के लिए, यदि AI सिस्टम व्यक्ति के व्यक्तिगत जीवन जानकारी को संग्रहित करता है तो इससे उनकी निजता का उल्लंघन हो सकता है
  • कोई नही AI Program 100 % Perfect नहीं हो सकता है इसलिए AI सिस्टम में तकनीकी समस्याएं हो सकती हैं जो सिस्टम की संचालन और सुरक्षा को खतरे में डाल सकती हैं
  • AI सिस्टम ने कुछ क्षेत्रों में मनुष्यों की जगह ले ली है जिससे बेरोजगारी पढ़ रही है जिससे आने वाले समय में आर्थिक विसंगतियां होने का खतरा है
  • AI सिस्टम को नैतिक उत्तरदायित्व के लिए तैयार नहीं किया जा सकता है | अनुमति के बिना भविष्य में AI सिस्टम द्वारा कुछ गलत करने का खतरा हो सकता है

Types of Artificial Intelligence (AI) in Hindi

Artificial Intelligence के वर्गीकरण की बात की जाए तो यह विभिन्न प्रकार के हो सकते हैं जिनमें से कुछ निम्नलिखित हैं:

  1. संज्ञानात्मक कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Perceptive AI)
  2. समझदार कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Cognitive AI)
  3. स्थायी यादृच्छिकता आधारित कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Rule-based AI)
  4. स्वतंत्र यादृच्छिकता आधारित कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Machine Learning-based AI)
  5. स्वयं संचालित कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Autonomous AI)

संज्ञानात्मक कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Perceptive AI)

संज्ञानात्मक कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Perceptive AI) एक ऐसी Artificial Intelligence (AI) है, जो मानव संवेदना की तरह संज्ञाओं को समझने और उन्हें पहचानने क्षमता रखती है | इस AI का उपयोग मुख्यतः उस प्रकार की जानकारी को प्राप्त करने के लिए किया जाता है जो वास्तविक विश्व में उपलब्ध होती है | यह AI Program उपयोगकर्ता के ज्ञान और उनके अनुभव से जानकारी लेती है और उन्हें समझने का प्रयास करती है |

उदाहरण से समझने का प्रयास करते हैं, मान लीजिये एक चित्र में कुत्ता होता है, तो संज्ञानात्मक AI उसे कुत्ते के रूप में पहचानेगा और उसे अपने database में store कर लेगा | इस AI का उपयोग विभिन्न क्षेत्रों जैसे रोबोटिक्स, वाहन और सिक्योरिटी इत्यादि में किया जाता है |

समझदार कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Cognitive AI)

समझदार कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Cognitive AI) एक विशेष प्रकार का Artificial Intelligence Program है जो मानव की तरह ही मानव के समान तरीके से सोच सकता है | इसका उद्देश्य अपने आसपास की दुनिया को समझने और समाधान करने के लिए समाज को सहायता प्रदान करना है |

समझदार कृत्रिम बुद्धिमत्ता के लिए, कंप्यूटर या रोबोट सिस्टम को अनुभवों और ज्ञान के डेटाबेस का उपयोग करके सीखना और समझना होता है | इसके लिए ये प्रोग्राम सिस्टम न्यूरल नेटवर्क, मशीन लर्निंग और नैटुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग (NLP) जैसी तकनीकों का उपयोग करते हैं |

स्वचालित गाड़ियों, वाणिज्य, वित्त, चिकित्सा, संचार और सुरक्षा इत्यादि के क्षेत्र में Cognitive AI लागू होता है | इस सिस्टम में ज्ञान, संबंधितता, न्यूनतम समय में फैसले लेने और संवाद के माध्यम से मानवों से सीधे बातचीत करने की क्षमता होती है |

स्थायी यादृच्छिकता आधारित कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Rule-based AI)

Rule-based AI एक विशेष प्रकार का Artificial Intelligence Program है जो नियमों और निर्देशों का उपयोग करता है और यह निर्देश उपयोगकर्ता द्वारा पूर्व निर्धारित किये जाते हैं | इस प्रकार की कृत्रिम बुद्धिमत्ता में, सिस्टम को पूर्व निर्धारित नियमों और निर्देशों के आधार पर फैसले लेने की क्षमता होती है | इन नियमों को सेट करने के लिए, डेटा वैधता और संभावित फलने वाले नतीजों को जांचने के लिए एक तर्क निर्माण प्रक्रिया का उपयोग किया जाता है |

Rule-based AI मुख्यतः विभिन्न क्षेत्रों जैसे वित्त, बैंकिंग, वाणिज्य, नैविगेशन, और सुरक्षा आदि में उपयोग किया जाता है | यह उपयोगकर्ता को फैसलों के लिए स्पष्ट दिशा-निर्देश देता है जो उनके अनुसार कार्य करने में मदद करता है |

स्वतंत्र यादृच्छिकता आधारित कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Machine Learning-based AI)

Machine Learning-based AI एक प्रकार की कृत्रिम बुद्धिमत्ता है जो Machine Learning की Algorithm का उपयोग करती है जिसमें सिस्टम उपलब्ध डेटा से सीखता है और स्वयं को समझदार बनाता है |

इस प्रकार की Artificial Intelligence आमतौर पर दो प्रकार की Machine Algorithm का उपयोग करती है: सुपरवाइज्ड और अनुपूर्वित सीखना

सुपरवाइज्ड मशीन लर्निंग में, एक मॉडल को लेबल युक्त डेटा सेट के साथ प्रशिक्षित किया जाता है और इस प्रकार की ट्रेनिंग के बाद, मॉडल नए और अज्ञात डेटा को विश्लेषण करने और उसके लिए युक्तियों का उपयोग करने की क्षमता प्राप्त करता है |

अनुपूर्वित मशीन लर्निंग में, मॉडल को बिना लेबल के डेटा सेट के साथ प्रशिक्षित किया जाता है और इस प्रकार की ट्रेनिंग के बाद, मॉडल नए और अज्ञात डेटा को विश्लेषण करने की क्षमता प्राप्त करता है और यह आंकड़ों, पैटर्न और संबंधों की खोज में मदद करता है |

स्वयं संचालित कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Autonomous AI)

Autonomous AI एक प्रकार की कृत्रिम बुद्धिमत्ता है जो स्वतंत्र रूप से निर्धारित कार्यों को संचालित करती है | इस तकनीक का उपयोग उन कार्यों के लिए किया जाता है जो आमतौर पर मानवों द्वारा किए जाते हैं, जैसे Production, Finance और Logistic इत्यादि | इसमें कंप्यूटर प्रोग्रामिंग, सेंसर और एक्टुएटर तकनीक के साथ कंट्रोल नेटवर्क का उपयोग किया जाता है |

आजकल, ऑटोमेटेड वाहन जैसे कि स्वयं चलने वाली कारें, ड्रोन, रोबोट और स्मार्ट होम एप्लाइंसेज जैसी बहुत सी चीजें स्वयं संचालित कृत्रिम बुद्धिमत्ता का उपयोग करती हैं। इसके अलावा, वित्तीय विनिमय, आपूर्ति श्रृंखला और समानुपातिक वित्त व्यवस्था जैसे कार्यों को स्वयं संचालित कृत्रिम बुद्धिमत्ता के द्वारा संभव हो पाया है |

Advancements of Artificial Intelligence in Hindi

Artificial Intelligence की Advancements की यदि बात की जाए तो कृत्रिम बुद्धिमत्ता (AI) में वैज्ञानिक अग्रसरता दिनों-दिन बढ़ती जा रही है और इसमें नए और उन्नत तकनीकों का विकास होता जा रहा है और यह तकनीकें आज के समय में मनुष्य के जीवन को बेहतर बनाने में मददगार हैं |

कुछ प्रमुख तकनीकें हैं जो Artificial Intelligence की मदद से संभव हो पायी हैं जिनका विकास हो रहा है –

  • मशीन लर्निंग (Machine Learning)
  • गहन शिक्षण (Deep Learning)
  • उत्पाद के लिए डिजाइन (Generative Design)
  • वस्तुतः भिन्न (AI for Good)
  • संवेदनशील योजना (Responsive Design)

मशीन लर्निंग (Machine Learning)

Machine Learning एक तकनीक है जो कंप्यूटर को स्वयं तकनीकी योग्यताओं वाले निर्देशों की जगह डेटा द्वारा सीखने की अनुमति देता है और यह डेटा माइनिंग, सांख्यिकी विश्लेषण और पैटर्न रिकवरी जैसी तकनीकों के साथ काम करता है |

गहन शिक्षण (Deep Learning)

Deep Learning एक Advanced Form of Machine Learning है जो न्यूरल नेटवर्क के जरिए डेटा के साथ काम करता है | यह तकनीक Customized Learning, Auto Encoding और Feature Engineeringके साथ काम करती है जो डेटा के साथ संबंधित समस्याओं को हल करता है |

उत्पाद के लिए डिजाइन (Generative Design)

Generative Design एक तकनीक है जो कंप्यूटर की सहायता से उत्पाद के लिए आकार, संरचना और उपयोग के आधार पर अद्भुत डिजाइन बनाती है | यह तकनीक डिजाइन इंजीनियरिंग में एक बड़ा चालक बन गई है और काफी मददगार साबित हो रही है क्योंकि इसके द्वारा इंजीनियर उत्पाद के लिए नए और आविष्कारिक आकार और संरचनाएं तैयार कर सकते हैं |

जब इंजीनियर उत्पाद के लिए ज़रूरी संबंधित डाटा, जैसे कि संरचना, उपयोग और सीमाओं के बारे में निर्देश देते हैं, तो Generative Design Software उन्हें आधार बताते हुए उत्पाद के लिए अनेक विभिन्न आकार और संरचनाएं प्रस्तुत करता है और इससे इंजीनियर स्पष्ट और सटीक तकनीकी निर्देशों के साथ एक स्वच्छ डिजाइन बना सकते हैं |

वस्तुतः भिन्न (AI for Good)

इस तकनीक का उपयोग समाज के लाभ के लिए किया जा रहा है | इसमें अनुसंधान और तकनीक का उपयोग स्वस्थ जीवन शैली, संसाधन उपयोग, खाद्य सुरक्षा, जल संरक्षण और जलवायु परिवर्तन के जैसे समस्याओं को हल करने में किया जाता है |

यह भी जानिये :- Wireless Communication क्या है और Types & History of Wireless Communication

Conclusion

Artificial Intelligence (AI) एक उपयोगी तकनीक है जो मानव ज्ञान को बढ़ाने और संभवतः असंभव कार्यों को संभव बनाने में मदद करती है | आजकल अधिकतर कंपनियां इस तकनीक का उपयोग अपने उत्पादों और सेवाओं के विकास में कर रही हैं | इसे स्वचालित डेटा विश्लेषण, स्वतंत्र लेनदेन विश्लेषण, उत्पाद के लिए डिजाइन और संवेदनशील योजना जैसी तकनीकों में इस्तेमाल किया जाता है | इस तकनीक का विकास भविष्य में अधिक उन्नत तकनीकों के विकास के साथ साथ होगा जो मानव जीवन को और बेहतर बनाने में मदद करेंगे |

आशा करते हैं कि Artificial Intelligence से related उपरोक्त article आपको पसंद आया होगा क्योंकि इस लेख में हमने Artificial Intelligence से सम्बंधित प्रत्येक जानकारी देने का प्रयास किया है | अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो इस लेख को शेयर अवश्य करें क्योंकि आपका 1 शेयर हमें इस तरह के अन्य उपयोगी लेख लिखने के लिए प्रोत्साहित करता है और हम आपके लिए समय समय पर लेख update करते रहते हैं |

Previous articleWhat is a Credit Score in Hindi (Credit Score Kya Hota Hai) and how to Improve it?
Next article10+ आसान तरीकों से Chat GPT से पैसे कमाएं (Chat GPT Se Paise Kaise Kamaye)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here