Keyword Stuffing क्या है, क्या इससे Google को बेवकूफ बनाया जा सकता है ?

624

Keyword Stuffing को Keyword Spamming भी कहा जा सकता है और यह एक ऐसी ट्रिक है जिससे कोई ब्लॉगर कुछ समय तक तो पैसे कमा लेगा किन्तु इस क्षेत्र में उसका भविष्य कभी नहीं बन पायेगा |  जैसा कि देखा जा रहा है कि blogging के क्षेत्र में आजकल competition बहुत ज्यादा बढ़ गया है और प्रत्येक ब्लॉगर चाहता है कि उसका आर्टिकल गूगल के first page में पहले नम्बर पर रैंक हो किन्तु गूगल के first page पर अपने ब्लॉग को ला पाना उतना ही कठिन है जितना कि भूसे में से एक छोटी सुई को खोज पाना |

पहले नम्बर पर आने की इस दौड़ में कई ब्लॉगर अपनी मेहनत से पहले स्थान पर पहुँचते हैं और कई ब्लॉगर Keyword Stuffing करके पहले स्थान पर पहुंचे हैं | आज के इस आर्टिकल में हम बताएँगे कि Keyword Stuffing क्या है और इससे किसी भी ब्लॉगर को क्या-क्या नुक्सान हो सकते हैं | यदि आप भी उपरोक्त से सम्बंधित जानकारी चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें |

Keyword Stuffing क्या है ?

जब आप कोई blogpost या आर्टिकल लिखते हैं और यदि आप keyword के हिसाब से काम कर रहे हैं तो आपके पास एक targeted keyword होता है जिसका प्रयोग आपको अपने post या आर्टिकल में करना होता है, किन्तु यदि आप अपने post को गूगल में रैंक कराने के लिए उसे बेहिसाब कहीं भी ज्यादा मात्रा में place कर देंते हैं तो यह क्रिया Keyword Stuffing कहलाती है |

उदाहरण से समझते हैं, मान लीजिये आप एक आर्टिकल SEO क्या है ? लिख रहे हैं ओर इस आर्टिकल में आपका targeted keyword SEO है और आपने हर जगह targeted keyword जैसे कि SEO क्या है, SEO के क्या फायदे हैं, SEO से आर्टिकल को google में कैसे रैंक करवाएं, On page SEO क्या होता है, Off page SEO क्या होता है का प्रयोग किया है तो यह Keyword Stuffing कहलाती है |

यहाँ पर एक छोटा सा paragraph था जहाँ पर इतने बार targeted keyword का प्रयोग किया गया है जो कि नहीं करना चाहिए था क्योंकि यह प्रारम्भ में भले ही आपके आर्टिकल को रैंक करने में मदद करें लेकिन बाद में आपका आर्टिकल इतना पीछे चला जाएगा कि उसे दोबारा गूगल में रैंक कराना नामुमकिन होगा |

Keyword Stuffing कहाँ कहाँ की जा सकती है ?

एक ब्लॉगर keyword stuffing करने के लिए निम्न जगह चुनता है क्योंकि ये सभी जगह एक blogpost या आर्टिकल के मुख्य points होते हैं |

  1. URL
  2. Post Title
  3. Content area
  4. Meta Tag (Description)
  • कई ब्लॉगर post के URL में targeted keyword को बार बार लिखते हैं जो कि बिल्कुल गलत है
  • Post Title में भी Targeted keyword बस एक बार ही होना चाहिए किन्तु keyword stuffing करने वाले ब्लॉगर post title में भी कई बार एक ही keyword का प्रयोग करते हैं
  • Content area एक ऐसी जगह है जहाँ पर keyword आपके आर्टिकल की length के अनुसार कई बार प्रयोग किया जा सकता है किन्तु यहाँ पर भी keyword को गलत तरीके से लगाया जाता है ताकि keyword की density को बढाया जा सके
  • Meta Tag आर्टिकल का वह हिस्सा है जहाँ पर कम शब्दों का description लिखना होता है और कई ब्लॉगर यहाँ पर भी keyword stuffing करते हैं

यदि कोई ब्लॉगर यह सोचता है कि Keyword Spamming करके Google को बेवकूफ बनाया जा सकता है तो वह ब्निल्कुल गलत है | हाँ कुछ समय के लिए वो इस ट्रिक से अपने आर्टिकल को रैंक जरूर करा सकता है किन्तु जैसे ही गूगल को पता चलता है गूगल के bots उस website की ranking को कम कर देते हैं |

गूगल का Artificial intelligence system बहुत powerful है और इसकी नजरों से बचकर कोई गलत काम जैसे stuffing, spamming इत्यादि कर पाना असंभव है |

ब्लॉग को keyword spamming से कैसे बचाएं ?

यदि आप एक unique आर्टिकल लिखना चाहते हैं तो उसे keyword spamming से अवश्य बचाएं और stuffing/spamming से बचाने के लिए निम्न बातों पर अवश्य ध्यान दें –

  • यह याद रखें कि keyword की density 10 % ही हो
  • यदि आप आर्टिकल को natural way में लिखते हैं तो keyword खुद ही अपने स्थान पर लिखे चले जाते हैं जो कि प्रत्येक आर्टिकल को unique बनाते हैं
  • Targeted Keyword की तरफ ज्यादा focus ना करके उससे related keywords को ओने आर्टिकल में डालने का प्रयास करें यह ट्रिक प्रत्येक ब्लॉगर के लिए helpful साबित हो सकती है
  • प्रयास करें कि प्रत्येक हैडिंग में keyword का प्रयोग ना हुआ हो या फिर जरूरत पड़ने पर ही अपनी Heading में keyword stuffing करें

इस आर्टिकल में आपने क्या सीखा ?

इस आर्टिकल में सभी readers को यह बताने का प्रयास किया गया है कि keyword stuffing क्या है और कहाँ-कहाँ की जा सकती है तथा एक ब्लॉगर के लिए कैसे खतरनाक साबित हो सकती है | यदि आपको यह लेख पसन्द आया हो तो इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें | इसे शेयर करने के लिए आप किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफार्म का प्रयोग कर सकते हैं |

Previous articleHow to create a Blog for Free & 9 best blogging platforms
Next articleAccelerated Mobile Pages (AMP) क्या है तथा AMP Test कैसे करें ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here