GPT-4 [Chat GPT के बाद OpenAI ने Launch किया Artificial Intelligence का बेहतरीन नमूना]

915

Chat GPT क्या है यह तो तो आप सभी जानते ही होंगे क्योंकि कुछ दिनों से यह काफी सुर्ख़ियों में रहा है और इसका कारण यह है कि Artificial Intelligence के आधार पर तैयार किये गए Chat GPT को The Future of Technology and Innovation कहा जा रहा है लेकिन OpenAI की दौड़ यहाँ पर समाप्त नहीं हुई थी और उसने Chat GPT का Upgraded Version GPT-4 को भी launch कर दिया है |

GPT 4 Hindi

अगर आप भी जानना चाहते हैं कि GPT-4 Kya Hai और इसके क्या-क्या features हैं तो उसके लिए आपको हमारा यह लेख अंत तक पढना होगा जहाँ पर आप सम्बंधित प्रत्येक जानकारी को जान पायेंगे |

यह भी जानिये :- What is Chat GPT in Hindi & How does it Works [Full Guide]

GPT-4 क्या है [What is GPT-4 in Hindi]

भविष्य की आवश्यकताओं को देखते हुए उन्हें पूरा करने के उद्देश्य से Chat GPT के बाद OpenAI द्वारा GPT-4 को विकसित किया गया है जो कि GPT श्रृंखला का अगला संस्करण है जो एक बहुत बड़े Database के आधार पर काम करने वाला है जहाँ पर लाखों शब्दकोश और उनके मानों के बीच संबंधों को शामिल किया गया है |

GPT-4 एक बहुत बड़ा Multimodal Model है जो Text input के साथ साथ images को भी accept करता है और text output में emit (उत्सर्जित) करता है | GPT-4 की text input capability को Chat GPT और API के माध्यम से जारी किया गया है |

अगर बात की जाए GPT 4 की Capabilities की तो Chat GPT के older version GPT-3.5 और GPT-4 के बीच का अंतर सूक्ष्म हो सकता है लेकिन यह अंतर तब नजर आता है जब किसी टास्क की जटिलता एक निश्चित सीमा तक पहुंचती है, इसलिए यह कहना उचित होगा कि GPT-4 GPT-3.5 से अधिक विश्वसनीय, रचनात्मक और सूक्ष्म निर्देशों को संभालने की क्षमता रखता है |

Limitations of GPT-4

अगर Limitations की बात की जाए तो इस version में भी वही सभी limitations हैं जो Chat GPT और उसके अन्य version में थीं और इन सबमें सबसे बड़ी limitation यही है कि इस पर पूर्ण रूप से reliable नहीं हो सकते हैं और इसका कारण यह है कि यहाँ से प्राप्त जबाबों से आप भ्रमित हो सकते हैं या फिर reasoning errors का सामना करना पड़ सकता है |

हालाँकि यह एक बहुत बड़ा issue है लेकिन GPT4 में इसे reduce करने का प्रयास किया गया है और इसे GPT 3.5 से 40% ज्यादा accurate बनाया गया है |

GPT-4 की विशेषताएं (Features of GPT – 4 in Hindi)

  • GPT-4 अधिक संवेदनशील होगा और संदेहों या विवादों को समझने में अधिक सक्षम होगा और पूछे जाने वाले सवालों का सही सही जबाब दे पायेगा
  • GPT का यह मॉडल भाषा को अधिक गहनता से समझेगा और उसे संबोधित करने के लिए बेहतर उत्तर प्रदान करेगा
  • GPT-4 का डेटाबेस बहुत बड़ा है और बड़े डेटासेट पर काम करने में सक्षम होने के कारण उसे अधिक संवेदनशील बनाने में मदद मिलेगी
  • GPT के इस मॉडल में संचार कौशलों को समझने और संबोधित करने की क्षमता बढ़ाई गयी है, जिससे उपयोगकर्ता से बेहतर संवाद संभव हो पायेगा
  • GPT के इस मॉडल में अधिक उन्नत न्यूरल नेटवर्क का उपयोग किया गया है जो उसे बेहतर संज्ञानात्मक क्षमता प्रदान करेंगे
  • GPT-4 उपयोगकर्ता की जरूरतों के अनुसार बेहतर लेखन क्षमता प्रदान करेगा, जिसका मतलब है कि यह उपयोगकर्ताओं के द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार भाषा का उपयोग कर सकेगा
  • GPT 4 में नयी एल्गोरिथ्म का उपयोग किया गया है जो इसे वाक्य संरचना और संवाद में सुधार करने में मदद करती है
  • GPT का यह मॉडल भाषा के विभिन्न पहलुओं को समझने और उन्हें एक साथ फीचर्स में एकीकृत करने में सक्षम है

यह भी जानिये :- Artificial Intelligence: The Future of Technology and Innovation [Advancements and Applications in Hindi]

निष्कर्ष

उपरोक्त इस लेख में आपने GPT-4 Kya Hai के साथ साथ अन्य जानकारियां जैसे इस मॉडल के features, limitations इत्यादि जाने और आशा करते हैं कि यह लेख आपको पसंद आया होगा | अगर यह लेख आपको पसंद आया हो तो इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिये ताकि ज्यादा लोग समय के साथ Up to Date रह सकें |

आपका 1 शेयर हमारे लिए बहुत कीमती है क्योंकि जब आप हमारे post को शेयर करते हैं तो हमें अन्य उपयोगी post लिखने का प्रोत्साहन ,इल्ता है और हम आपके लिए इस तरह के उपयोगी post समय समय पर लाते रहते हैं |

Previous article10+ आसान तरीकों से Chat GPT से पैसे कमाएं (Chat GPT Se Paise Kaise Kamaye)
Next articleGoogle Bard AI – Chat GPT के साथ-साथ अब गूगल एआई बार्ड भी देगा आपके सवालों का जबाब

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here