भाषा किसे कहते हैं (Bhasha Kise kahte hain) – परिभाषा, भेद और उदाहरण [ 2022 ]

भाषा किसे कहते हैं (Bhasha Kise kahte hain) ?

हम भारतवासी हैं और हिंदी हमारी मातृभाषा है और भारत देश में मुख्यतः रूप से hindi भाषा का ही प्रयोग किया जाता है लेकिन यह बात भी बिल्कुल सत्य है कि भारत में हर 10 किलोमीटर की दूरी में मनुष्य की भाषा और उसकी बोली बदल जाती है इसका मतलब यह है कि भारत में कई भाषाएं और उनसे सम्बंधित बोलियाँ हैं | लेकिन ये सभी भाषाएँ और बोलियाँ हिंदी के ही स्वरुप हैं |

हिंदी विश्व में सबसे अधिक बोली जाने वाली तीसरी भाषा है, इसीलिए 14 सितंबर का दिन प्रतिवर्ष हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

आज के आर्टिकल में मुख्य रूप से हम यह जानेंगे कि भाषा किसे कहते हैं (Bhasha Kise kahte hain), इसकी परिभाषा, भेद और उदाहरण भी जानेंगे | यदि आप भी अपनी मातृभाषा से सम्बंधित प्रत्येक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें |

यह भी जानिये :-  5 + Examples of How to Write Acknowledgement in Hindi for School Project

भाषा किसे कहते हैं || Bhasha Kise kahte hain

भाषा एक साधन है एक मनुष्य का किसी अन्य मनुष्य के साथ बातचीच करने के लिए जिसके द्वारा मनुष्य अपने मन के विचारों और भावों को बोलकर,लिखकर, सुनकर या पढ़कर व्यक्त कर सकता है, अर्थात मनुष्य का बोलकर, लिखकर, सुनकर व पढ़कर, अपने मन के विचारों तथा भावों का आदान-प्रदान करना भाषा कहलाता है।

bhasa kise kahte hai

भाषा’ शब्द संस्कृत की ‘भाष्‘ धातु से लिया गया है, जिसका अर्थ है- भाषित होना, स्पष्ट वाणी अथवा बोलना। मनुष्य के मुख से निकली वे सार्थक ध्वनियाँ हैं जो दूसरों तक अपनी भावनाओं को पहुँचाने का काम करती हैं, या स्पष्ट रूप से अर्थ बताती हैं, भाषा कहलाती है।

Bhasha (Wikipedia)

भाषा की परिभाषा (Bhasha ki Paribhasha)

भाषा को भिन्न-भिन्न महापुरुषों और मुख्य किताबों द्वारा अनेक रूप में परिभाषित किया गया है-

  • आचार्य देवनार्थ शर्मा के अनुसार भाषा की परिभाषा

जब मनुष्य उच्चारण के लिए ध्वनि संकेतों की मदद से परस्पर विचार-विनिमय करते हैं तो उस संकेत प्रणाली को भाषा कहा जाता है।

  • जॉन डूई अनुसार भाषा की परिभाषा

भाषा जानने का साधन या पूछताछ का उपकरण है।

  • ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी के अनुसार भाषा की परिभाषा

भाषण और लेखन में संचार की प्रणाली जो किसी विशेष देश या क्षेत्र के लोगों द्वारा उपयोग की जाती है, भाषा कहलाती है।

  • पतंजली के अनुसार भाषा की परिभाषा

भाषा संचार की एक प्रणाली है, जिसके द्वारा मनुष्य स्वयं को अभिव्यक्त करता है।

भाषा कितने प्रकार की होती हैं  / भाषा के भेद

भाषा मुख्यतः तीन प्रकार की होती हैं – मौखिक भाषा, लिखित भाषा एवं सांकेतिक भाषा

मौखिक भाषा

मौखिक भाषा, भाषा का वह रूप है जिसमें व्यक्ति अपने भावों को बोलकर प्रकट करता है और दूसरा व्यक्ति उसी भाषा को सुनकर उसकी बात को समझता है | भाषा को बोलने और समझने के लिए दो व्यक्तियों की आवश्यकता होती है और जो व्यक्ति भाषा को बोलता है वह “वक्ता” कहलाता है, वहीँ दूसरी ओर जो व्यक्ति उस भाषा को सुनकर समझता है वह “श्रोता” कहलाता है |

उदाहरण :- राम और श्याम नामक दो व्यक्ति हैं और वार्तालाप के दौरान राम श्याम से कहता है कि मैं तुम्हारा बड़ा भाई हूँ | यहाँ पर राम ने बोलकर अपने भाव को व्यक्त किया है इसलिए राम यहाँ पर “वक्ता” है | श्याम ने राम द्वारा बोले गए शब्दों को सुना और समझा कि राम उसका बड़ा भाई है, तो श्याम यहाँ पर “श्रोता” है |

लिखित भाषा

लिखित भाषा, भाषा का वह माध्यम है जिसमें हम अपने विचारों को लिखकर प्रकट करते हैं, इसका मतलब यह है कि यदि हम किसी अन्य व्यक्ति को कुछ बताना या समझाना चाहते हैं उसके लिए हम कोई वाक्य लिखते हैं और दूसरा व्यक्ति उस वाक्य को पढता है और समझता है | लिखित भाषा के प्रयोग के लिए दोनों व्यक्तियों का पढ़ा लिखा होना आवश्यक है |

सांकेतिक भाषा

जो व्यक्ति बोल-सुन नहीं सकते या पढ़-लिख नहीं सकते वे सांकेतिक भाषा का इस्तेमाल करते हैं | इस भाषा में लोग संकेतों का इस्तेमाल कर अपने भावों को व्यक्त करते हैं | देश विदेशों में ट्रैफिक रूल्स को फॉलो कराने के लिए सांकेतिक भाषा का ही इस्तेमाल किया जाता है, इसमें लोग संकेतों को देखकर पता लगाते हैं कि हमें किस ओर जाना है |

यह भी जानिये :-

  1. Rahim Ke Dohe >> रहीम दास के प्रसिद्ध दोहे उनके अर्थ सहित
  2. Ultimate 100+ Short Stories in Hindi with Significance for kids

[su_divider top=”no” style=”double”]

इस आर्टिकल में भाषा किसे कहते हैं (Bhasha Kise kahte hain) से सम्बंधित बहुत सी basic जानकारियां दी गयी हैं लेकिन उपरोक्त सभी जानकारियां बहुत उपयोगी है | यहाँ पर बहुत ही सरल और प्रतिदिन बोलने वाली भाषा का प्रयोग किया गया है ताकि बड़ों के साथ साथ बच्चे भी इसके माध्यम से समझ पायें कि Bhasha Kise kahte hain |

आशा करते हैं कि यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा और यदि आप इसमें किसी तरह की गलती देखते हैं तो हमें comment के माध्यम से अवश्य बताएं ताकि हम उस गलती को जल्द से जल्द सुधार सकें | साथ ही साथ इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि भाषा से सम्बंधित यह मुख्य जानकारी ज्यादा लोगों तक पहुँच सके |

[su_divider style=”double”]

Targeted Keywords : bhasha kise kahate hain || bhasa kise kahte hai || bhasha kise kahate hain hindi mein || bhasha kise kahte hai || bhasha kise kahate hain hindi

Previous articleWebsite kya hota hai & Website Design kya hota hai ?
Next article10 Colours Name in Hindi & English with their Shades for Students

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here