Aquaponic Farming क्या है और इससे 1 दिन में कितना पैसा कमाया जा सकता है ?

Aquaponic Farming – मछली के पानी के ऊपर सब्जियां उगाना

जैसा कि भारत एक कृषि प्रधान देश है और भारत में रहने वाले लगभग 70 % भारतीय किसान हैं और खेती ही उनकी आजीविका का Source है तो आज के इस आर्टिकल में हम अपने readers को Aquaponic Farming के बारे में जानकारी देने वाले हैं, यदि आप भी farming की इस नयी तकनीक के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें |

Farming का तरीका बदलिए, जरूर बदलेगा देश

कृषि प्रधान देश होने के कारण किसानों के अन्दर काम करने का जज्बा तो कूट-कूट कर भरा है किन्तु मात्र traditional farming की जानकारी होने की वजह से भारत के किसान ज्यादा हाथ पैर नहीं मारते हैं और एक ही तरह की खेती करते रहते हैं | यहाँ पर एक बदलाव की जरुरत है क्योंकि किसानों के पास जमीन तो बहुत है जिस पर वह सोना भी उगा सकता है लेकिन ज्यादा जानकारी ना होने की वजह से वह किसान अपनी जमीन का सदुपयोग नहीं कर पा रहा है |

यह भी जानिये : Problems of Farmers – किन-किन कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है एक किसान को ?

भारत में Traditional farming के बजाय वह खेती की जाए जो नयी-नयी तकनीकों पर आधारित है तो भारत का कोई किसान गरीब नहीं रहेगा क्योंकि यदि वह अपनी खेती करने का तरीका बदलता है तो वह कई गुना आमदनी कर सकता है | यहाँ पर हम बात कर रहे हैं Aquaponic Farming की जो कि बिल्कुल नयी तकनीकों पर आधारित है |

Aquaponic Farming क्या है ?

Aquaponic शब्द दो शब्दों Aqua और Ponic से मिलकर बना है जहाँ पर Aqua लिया गया है Aquaculture से यानि कि मछली का उत्पादन और Ponic का मतलब होता है किसी भी सब्जी या किसी भी प्लांट को पानी के ऊपर उगाना | अब Aqua और Ponic को जोड़ा जाए तो Aquaponic बनता है जिसका मतलब होता है “मछली के पानी के ऊपर सब्जी उगाना” और इसी को कहा जाता है Aquaponic Farming

aquaponic-farming-in-india

Aquaponic Farming में कैसे होती है खेती ?

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि मछली के पानी के ऊपर सब्जियां उगाई जाती हैं उसके लिए इस farming में मछली को पालने के लिए एक बड़े टैंक का प्रयोग किया जाता है और उसमें मछलियाँ पाली जाती हैं और उन्हें नियमित रूप से खाना दिया जाता है जिससे वे मछलियाँ naturally waste निकालती हैं और उसी पानी का use आगे सब्जी उगाने में किया जाता है |

जैसे Traditional farming में Cow Waste का प्रयोग किया जाता है ठीक वैसे ही Aquaponic Farming में मछली का waste प्रयोग में लाया जाता है | जिस पानी में मछलियाँ naturally waste निकालती हैं वह पानी आगे जाकर एक नए टैंक पर इकठ्ठा होता है उस उस टैंक में मछली के waste का treatment किया जाता है जहाँ पर मछली के waste को वैक्टीरिया प्राकृतिक रूप से  ब्रेकडाउन करते हैं जिससे मछली के द्वारा जो nutrition बनाया गया है वह पानी अलग हो जाता है जिसका उपयोग आगे खेती में किया जाता है |

जैसा कि Aquaponic farming के लिए जमीन की जरूरत नहीं होती है, इस farming में सभी सब्जियां और अन्य प्लांट पानी पर उगाये जाते हैं जिन्हें stable रखने के लिए plant board बनाये जाते हैं जिनकी मदद से सभी प्लांट पानी में तैरते रहते हैं |

Aquaponics Training Centres in India

Aquaponic Farming में 95% पानी की होगी बचत

95 % पानी की बचत होगी यह statement सायद आपके मन में सवाल खड़ा कर रहा होगा कि यह कैसे संभव है, तो हम आपको बता दें कि यह बात बिल्कुल सही है कि Aquaponic Farming में 95% पानी की बचत की जा सकती है | इस farming के लिए एक बार जिस पानी को इकठ्ठा किया जाता जाता है वह बार बार recycle होता रहता है और काफी समय तक हम एक बार के पानी को ही use करते रहते हैं |

Traditional Farming में खेती जमीन पर की जाती है और जमीन काफी पानी सोख लेती है जिससे अनाज उगाने के लिए बहुत अधिक पानी की आवश्यकता पड़ती है किन्तु Aquaponic Farming में ऐसा बिल्कुल नहीं होता है क्योंकि यहाँ पर पानी सोखने के लिए जमीन है ही नहीं |

Aquaponic Farming के फायदे

  1. इसका सबसे बड़ा फायेदा तो यही है कि यदि आप Aquaponic farming को करते हैं तो आपके पास Source of Income के दो तरीके हो जाते हैं, पहला यह है कि आप मछली के waste हुए पानी में सब्जी उगाकर सब्जी को बेच के पैसा कमाते हैं और दूसरा यह है कि मछली के waste के लिए आपको मछली पालन भी करना पड़ेगा और भारत के मछली बाजारों में मछली की अच्छी खासी कीमत मिल जाती है
  2. इस farming से आप 95 % पानी बचा सकते हैं क्योंकि इस farming में रेगुलर फार्मिंग की तुलना में मात्र 5 % पानी ही खर्च होता है
  3. जैसे कि यह खेती पानी पर होती है तो इसमें फ़ालतू की घास फूस नहीं उगती है जिससे काफी मेहनत और पैसा बचता है
  4. इस फार्मिंग में आप daily basis पर सब्जियों को तोड़कर उन्हें बेच सकते हैं, यह आपके market पर depend करता है

1 दिन में कितना पैसा कमाया जा सकता है ?

इस फार्मिंग के जरिये 1 दिन में कितना पैसा कमाया जा सकता है यह तो depend करता है कि आप इस farming में किस चीज का उत्पादन कर रहे हैं और उसकी market value कितनी है | लेकिन हम यहाँ पर एक उदाहरण के माध्यम से समझा सकते हैं कि 1 दिन में कितने पैसे कमाए जा सकते हैं |

यदि आपके Aquaponic फार्म में प्रतिदिन 200 से 300 किलो हार्वेस्टिंग होती है और उसका औसतन मूल्य 100 रूपए प्रति किलो मिलता है तो आप 20-30 हजार रूपए प्रतिदिन यहाँ से कम सकते हैं | और इसके साथ जो आपने मतस्य पालन किया है उन मछलियों को आप अपनी सुविधानुसार कभी भी बेच कर पैसे कमा सकते हैं |

[su_divider top=”no”]

उम्मीद करते हैं कि Aquaponic Farming से सम्बंधित उपरोक्त आर्टिकल आपको पसंद आया होगा और आपने हमारे माध्यम से एक नयी चीज सीखी होगी | यदि आप किसान हैं तो आप इसका फायेदा उठा सकते हैं और यदि आप किसान नहीं है तो यह प्रयास कर सकते हैं कि यह आर्टिकल ज्यादा से ज्यादा किसानों तक पहुंचे, इसके लिए आप इस आर्टिकल को शेयर कर सकते हैं |

आर्टिकल को शेयर करने के लिए आप किसी भी social media platform का प्रयोग कर सकते हैं और आपका एक शेयर देश की farming में बदलाव लाने के लिए पहला कदम हो सकता है |

[su_divider]

Previous articlePocket FM Novels क्या है और इससे कैसे कमाएं 70-80 हजार/महीना ?
Next articleSEO Moz Extension क्या है और इसके क्या फायदे हैं ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here