Van Dhan Yojana क्या है तथा इसमें TRIFED का क्या Role है ?

Van Dhan Yojana का लक्ष्य सम्पूर्ण भारत देश के आदिवासी जनजाति समुदाय के जीवन यापन को बेहतर बनाना है | इस आर्टिकल में हम बताने वाले हैं कि क्या है van dhan yojana  और क्या हैं इस योजना के उद्देश्य तथा साथ ही साथ हम बताएँगे कि प्रधानमन्त्री वन धन विकास योजना के क्या लाभ हैं | यदि आप भी वनधन योजना से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी रखना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें |

Van Dhan Yojana (VDY) में TRIFED की भूमिका

प्रधानमंत्री वन धन विकास योजना का सञ्चालन TRIFED (Tribal Co-operative Marketing Development Federation of India) द्वारा किया जा रहा है | इस योजना की शुरुआत प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी जी ने जनजातीय मामलों के मंत्रालय (Ministry of Tribal Affairs) के साथ मिलकर केंद्रीय स्तर पर नोडल विभाग के रूप में तथा रास्ट्रीय स्तर पर नोडल एजेंसी के रूप में 14 अप्रैल 2018 को की थी, तभी से यह एक सफल योजना के रूप में कार्यरत है |

TRIFED क्या है ?

TRIFED, जनजातीय मंत्रालय के अन्तर्गत आदिवासी समुदाय के लोगों के लिए कार्यरत National Level की एक top organization है जिसका मुख्यालय दिल्ली में स्थित है तथा जिसके अन्दर अलग-अलग राज्यों के 15 क्षेत्रीय कार्यालय कार्यरत करते हैं | इसका गठन 1987 में जनजातीय कार्य मन्त्रालय के अन्तर्गत रास्ट्रीय नोडल एजेंसी के रूप में किया गया था |

TRIFED का मुख्य कार्य देश भर में आदिवासी समुदायों को भिन्न-भिन्न प्रकार `की trainings देकर वन उत्पादों का सही इस्तेमाल कर उन्हें रास्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में बेचकर एक सफल उद्धमी बनाकर उनके जीवन को बेहतर बनाना है |

क्या है Van Dhan Yojana ?

वन धन यानि कि वन अर्थात जंगल में होने वाला धन या संपदा, मुख्यत: भारत में रहने वाले अधिकतर आदिवासी लोग जंगलों में प्रवास करते हैं और अपने खान-पान की आपूर्ति को जंगलों से ही पूरा कर लेते हैं, किन्तु इससे केवल उनका ही भरण पोषण हो पाता है | आदिवासी लोग वन में पैदा होने वाली जिन चीजों का इस्तेमाल दैनिक रूप में करते हैं मूल रूप से उन्हें पता नहीं होता है कि वे सभी चीजें बाकी सभी लोगों के लिए भी कितनी मुख्य है और उन्हें कितना धन दे सकती हैं |

यही देखते हुए भारत सरकार द्वारा TRIFED के नेतृत्व में Van Dhan Yojana (VDY) का सृजन किया गया ताकि आदिवासी लोग जंगल में होने वाली सभी खाने पीने योग्य वस्तुओं को इकठ्ठा करके उन्हें राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय बाजार में बीच सकें जिससे उन सभी आदिवासी लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा |

इस वन धन विकास योजना से कई आदिवासी लोगों को रोजगार मिल रहा है और उनकी आजीविका चल रही है तथा इससे वे सभी आदिवासी लोग अपनी आर्थिक स्थिति में सुधार कर रहे हैं |

वन धन योजना के अन्तर्गत सम्पूर्ण भारत देश के 278 जिलों में 3110 VDVK Cluster (van dhan vikas kendra cluster) कार्यरत हैं जिनमें लगभग 9.5 लाख बेनिफिसिअरी इस योजना से जुड़े हुए हैं और इससे फायेदा ले रहे हैं |

Van Dhan Yojana का उद्देश्य

  • सभी आदिवासी समुदायों की आजीविका के लिए कार्य करना और प्रत्येक को एक सफल उधमी बनाना
  • इस योजना के अन्तर्गत हर राज्य में जगह जगह कई वन धन विकास केंद्र समूहों (VDVKC) को स्थापित करना
  • सभी जनजातीय लोगों को ट्रेनिंग देकर उन्हें सफल उधमी बनाना
  • आदिवासी लोगों द्वारा खोजे गए या तैयार किये गए प्रोडक्ट को राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सही मूल्य दिलाना

Van Dhan Vikas Yojana के लाभ

  • इस योजना के तहत सभी आदिवासी लोग भिन्न-भिन्न प्रकार की trainings पाकर कुशल बनेंगे और अपना सामन बाजारों में उचित मूल्य में बेचने में स्वमं सक्षम होंगे
  • Van Dhan Yojana का सबसे बड़ा लाभ यह है कि यदि कोई आदिवासी इस योजना में काम कर रहा है तो उसे TRIFED का बना बनाया बाजार मिल जाता है जहाँ पर वे अपने सामान को बेच सकते हैं
  • इस योजना के जरिये प्रत्येक आदिवासी जो इस योजना से जुड़ा है मेहनत करके अपनी परिवार की आर्थिक स्थिति में सुधार कर पायेगा
  • जनजातीय वर्ग के सभी नए युवाओं को अपने भविष्य को सुधारने का एक मौका मिलेगा

Guidelines for Van Dhan Vikas कार्यक्रम (English)

Van Dhan Yojana के अन्तर्गत कौन-कौन से उत्पाद हैं ?

वन धन योजना के अन्तर्गत खाने पीने योग्य कई उत्पाद हैं जिन्हें सम्पूर्ण देश में तथा विदेशों में भी बिक्री के लिए भेजा जाता है, जिससे कई आदिवासी परिवारों की आजीविका चलती है | इन सभी आदिवासियों का सबसे बड़ा ग्राहक TRIFED है जो इनसे इनके उत्पाद खरीदता है और अपने सभी शोरूम्स के जरिये पूरे भारत में बेचता है |

ये सभी उत्पाद मनुष्यों के दैनिक जीवन में प्रयोग में लाये जाते हैं, ये सभी उत्पाद  जैसे शहद, दालें, चावल,जीरा, जूस, मक्का, हर्बल टी, जड़ीबूटियाँ इत्यादि हैं |

आज के आर्टिकल में आपने जाना कि Van Dhan Yojana क्या है, इसके क्या लाभ हैं तथा वन धन योजना के क्या उद्देश्य हैं और वन धन योजना में TRIFED की भूमिका क्या है | यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और शेयर करने के लिए आप किसी भी social media platform का प्रयोग कर सकते हैं |

 

Previous articleनए राशन कार्ड हेतु आवेदन कैसे करें ? [ Ration Card online Uttarakhand ]
Next articleHow to Vote India [ India में वोट कैसे करें ] ?

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here