Mother Teresa Biography in Hindi || मदर टेरेसा का जन्म कब और कहाँ हुआ (जीवनी)

461

यदि हम बात करते हैं मानवता, सेवा और परोपकार की तो सर्वप्रथम हमारी जुबान पर जो नाम आता है वह नाम है Mother Teresa (मदर टेरेसा) जिन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन दूसरों की सेवा और परोपकार में अर्पित कर दिया था | वे हमेसा निस्वार्थ भाव से सभी की सेवा किया करती थीं क्योंकि उनका कोमल ह्रदय संसार के उन सभी व्यक्तियों के लिए धडकता था जो गरीब, बीमार, असहाय और परेशान रहते थे |

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं  Mother Teresa की बायोग्राफी के बारे में, और इस आर्टिकल में मदर टेरेसा का जन्म कब और कहाँ हुआ था तथा इसके अलावा भी सम्बंधित जानकारी हम अपने पाठकों को देने वाले हैं | यदि आप भी Mother Teresa के बारे में विस्तारपूर्वक jankari प्राप्त करना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अन्त तक जरूर पढ़िए |

Mother Teresa Birthday { मदर टेरेसा का जन्म कब और कहाँ हुआ }

Agnes Gonxha Bojaxhiu का जन्म 26 अगस्त 1910 को Skopje, North Macedonia में अल्बेनियाई परिवार में हुआ था तथा इन्हें बाद में मदर टेरेसा के नाम से जाना गया (मदर टेरेसा कौन हैं ?) | अल्बेनियन भाषा में Gonxha का मतलब Flower Bud होता है और flower bud को हिन्दी भाषा में फूल की कली कहा जाता है | अपने नाम के अर्थ की तरह ही मदर टेरेसा का ह्रदय भी फूल की तरह ही कोमल था |

8 वर्ष की आयु में ही उनके पिता का देहांत हो गया था और उनके सर से अपने पिता का साया उठ गया था | पिता के देहांत के बाद मदर टेरेसा और उनके भाई तथा बहन की सारी जिम्मेदारी उनकी माता के कन्धों पर आ गयी थी | 18 वर्ष की आयु में ही मदर टेरेसा नर्स बन गयी थीं और सेवा भाव से अपना कार्य करने लगीं थी तथा अपनी माता का हाथ बटाने लगी थीं |

Mother Teresa द्वारा मिशनरीज ऑफ़ चैरिटी की स्थापना

नर्स बनने के बाद कार्य करते करते मदर टेरेसा ने सोचा कि गरीब असहाय बच्चों के लिए एक स्कूल खोला जाए और उन्होंने 1948 में एक ऐसा स्कूल खोल दिया जिसमें प्रत्येक वर्ग के बच्चों को फ्री शिक्षा दी जाने लगी | बाद में इन्होने इसी स्कूल को एक संस्था के र्रोप में देखा और इसकी अनुमति के लिए प्रयास करने लगीं |

7 अक्टूबर 1950 को आखिरकार वह ख़ुशी का दिन आ ही गया जब मिशनरीज ऑफ़ चैरिटी बनाने के लिए मदर टेरेसा को अनुमति मिल गयी इस तरह उन्होंने 1950 में मिशनरीज ऑफ़ चैरिटी की स्थापना करी | प्रारम्भ में स्कूल के अध्यापक ही इस संस्था के स्वमंसेवक बने और मात्र 12 लोग इस संस्था में कार्य कर रहे थे किन्तु यदि बात की जाए वर्तमान समय की तो आज यहाँ लगभग 4000 लोग कार्य कर रहे हैं |

इस संस्था का मुख्य उद्देश्य उन सभी असहाय लोगों के लिए कार्य करना था बीमार, गरीब व काबिल नहीं थे और जिनका इस दुनिया में अपना कोई नहीं था | यह देखते हुए इस संस्था द्वारा कई चैरीटेबल अस्पताल, वृद्धाआश्रम तथा नर्सिंग होम बनाये गए जहाँ सेवाभाव से लोगों की देखभाल की जाती है | इन सभी स्थानों पर मदर टेरेसा स्वमं पढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया करती थीं और लोगों की सेवा करती थीं |

Mother Teresa Charitable Trust 

Mother Teresa Awards & Achievements ( पुरस्कार और सम्मान )

  • 1962 में मदर टेरेसा को भारत सरकार द्वारा पद्म श्री से सम्मानित किया गया था
  • 1979 में गरीब, बीमारों तथा असहाय लोगों की मदद करने के लिए मदर टेरेसा को नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था और पुरस्कार के रूप में मिलने वाली धनराशि ( 1,92,000 डॉलर) को मदर टेरेसा ने गरीबों तथा असहाय लोगों पर खर्च करने का निर्णय लिया
  • 1980 में मदर टेरेसा को भारत सरकार द्वारा भारत के सबसे बड़े पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित किया गया था
  • 1985 में अमरीका सरकार द्वारा मदर टेरेसा को मैडल ऑफ़ फ्रीडम अवार्ड से सम्मानित किया गया
  • 2003 में पॉप जॉन पोल के द्वारा मदर टेरेसा को धन्य कहा गया और उन्हे ब्लेडेस्ट टेरेसा ऑफ़ कलकत्ता की उपाधि दी गयी और सम्मानित किया गया

Facts about Mother Teresa || मदर टेरेसा से जुडी कुछ खास बातें

  1. मदर टेरेसा एक रोमन कैथोलिक थीं और उन्हें भारतीय नागरिकता मिली हुई थी
  2. 1981 में उन्हें मदर टेरेसा के नाम से जाना जाने लगा था और उसी वर्ष उन्होंने आजीवन सेवा का संकल्प लिया था
  3. मदर टेरेसा का मानना था कि यदि आप 100 लोगों को भोजन नहीं करवा सकते हैं तो कम से कम 1 मनुष्य को तो भोजन अवश्य करवाएं
  4. मदर टेरेसा की मृत्यु के समय मदर टेरेसा द्वारा स्थापित की गयी संस्था मिशनरीज ऑफ़ चैरिटी 123 देशों में फ़ैल चुकी थी और 610 मिशन नियंत्रित कर रही थी

मदर टेरेसा की मृत्यु कब हुई थी ?

1983 और 1989 में दो दफा दिल का दौरा पड़ने की वजह से मदर टेरेसा अन्दर से बहुत कमजोर हो चुकी थीं और बढती उम्र तथा बीमारियों की वजह से 5 सितम्बर 1997 को मानवता की मूरत मदर टेरेसा का निधन हुआ था और राजकीय सम्मान के साथ उन्हें विदा किया गया था |

[su_button url=”https://explanationinhindi.com/biography/atal-bihari-vajpayee/” target=”blank” size=”5″]यह भी पढ़िए : Biography of Atal Bihari Vajpayee in Hindi || अटल बिहारी बाजपेयी जीवन परिचय[/su_button]

 

उम्मीद करते हैं कि मदर टेरेसा से सम्बंधित उपरोक्त जानकारी आपको पसन्द आई होगी, आपसे गुजारिश है कि इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि ज्यादा लोगों तक मदर टेरेसा से सम्बंधित यह जानकारी पहुँच पाए |

बायोग्राफी, टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर, अमेजिंग फैक्ट्स, how to queries तथा अन्य से सम्बंधित विस्तारपूर्वक जानकारियाँ पढने के लिए explanation in हिन्दी visit करें |

Previous articleई आधार डाउनलोड कैसे करें ? { Unique Identification Card }
Next articleVivek Bindra Biography in Hindi : मनुष्य 1 सफलताएँ अनेक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here