Kainchi Dham Ashram – नीम करोली बाबा का दिव्य आश्रम

उत्तराखंड के नैनीताल जिले में स्थित Kainchi Dham Ashram विश्व भर में प्रसिद्ध है और यहाँ पर नीम करोली बाबा के दर्शन के लिए दुनिया भर के लोग इस आश्रम में पहुँचते हैं | नीम करोली बाबा को हनुमान जी का अवतार माना जाता है और कहा जाता है कि नीम करोली बाबा के दर्शन मात्र से यहाँ आये भक्तों के दुःख दूर हो जाते हैं | इस आर्टिकल में हम Kainchi Dham Ashram से सम्बंधित जानकारी देने वाले हैं यदि आप भी इस दिव्य आश्रम के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें |

About Kainchi Dham Ashram (कैंची धाम आश्रम के बारे में)

कैंची धाम आश्रम नीम करोली बाबा जी का प्रसिद्ध मन्दिर तथा प्राकृतिक वादियों के बीच दिव्य तथा रमणीक स्थल है | नीम करोली बाबा हनुमान जी के अवतार माने जाते हैं | मान्यता है कि हनुमान जी के इस मन्दिर में दर्शन मात्र से ही बिगड़ी तकदीर बन जाती है इसलिए कैंची धाम आश्रम विश्व भर में प्रसिद्ध है | कैंची धाम आश्रम में हनुमान जी के मन्दिर के साथ साथ भगवान् राममाता सीता तथा देवी दुर्गा के भी छोटे छोटे मन्दिर बने हुए हैं |

Kainchi Dham Ashram की स्थापना को लेकर कई रोचक कथाएं हैं – जनश्रुति के अनुसार नीम करोली महाराज ने सन 1962 में यहाँ की भूमि पर अपने पावन कदम रखे थे तथा उनके चरणों की आभा पाकर यहाँ की भूमि धन्य हो गयी थी और 1962 में ही कैची धाम आश्रम की स्थापना हो गयी थी |

Kainchi Dham Location

Kainchi Dham Temple (कैंची धाम मन्दिर) हिमालय की गोद में उत्तराखंड राज्य के नैनीताल जिले में भवाली – अल्मोड़ा/रानीखेत रास्ट्रीय राजमार्ग के किनारे स्थित है |

नीम करोली बाबा का यह मन्दिर उत्तराखंड के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल सरोवर नगरी नैनीताल से 22 किलोमीटर तथा भवाली से 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है|

kainchi dham

Kainchi Dham Mela, Nainital, Uttarakhand (कैंची धाम मेला)

विश्व विख्यात कैंची धाम मेले का आयोजन प्रतिवर्ष 15 जून को होता है | इस मेले का हिस्सा बनने के लिए  देश- विदेश  से लाखों श्रद्धालू यहाँ पहुंचते हैं तथा प्रसाद ग्रहण करते है | 15 जून 1964 को मन्दिर में हनुमान जी की मूर्ती स्थापित की गयी थी, यही कारण है कि 15 जून को यहाँ पर भव्य मेले का आयोजन किया जाता है |

बताया जाता है कि इस मेले में लाखों श्रद्धालु पहुँचते हैं और भण्डारे में आकर प्रसाद ग्रहण करते हैं किन्तु भंडारे में आज तक भोजन की कमी नहीं हुई है, क्योंकि लोगों का मानना है कि इस दिन नीम करोली बाबा स्वंय भण्डारे में उपस्थित होते हैं और किसी भी चीज की कमी नहीं होने देते हैं |

Kainchi Dham – Best Time to Visit ?

वैसे तो आप कैंची धाम में बाबा नीम करोली जी के दर्शन करने के लिए कभी भी आ सकते हैं किन्तु फरबरी से जून के बीच यहाँ मौसम बहुत सुहाना होता है इसलिए इस समय यहाँ पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है | 15 जून को प्रतिवर्ष यहाँ पर एक विशाल मेले का आयोजन होता है तथा इस दिन लाखों श्रद्धालु कैंची धाम पहुँचते हैं |

Kainchi Dham Kaise Pahunche (How to Reach Kainchi Dham Ashram)

निकटतम रेलवे स्टेशन – काठगोदाम

काठगोदाम रेलवे स्टेशन की दूरी कैंची धाम से लगभग 38 किलोमीटर है | काठगोदाम पहुँचने के बाद 38 किलोमीटर का सफ़र पहाड़ी मार्ग पर किया जाता है | स्टेशन से कैंची धाम पहुँचने के लिए आप टैक्सी या फिर स्थानीय बसों का प्रयोग कर सकते हैं|

निकटतम हवाई अड्डा – पंतनगर

कैंची धाम का निकटतम हवाई अड्डा “पंतनगर हवाई अड्डा” है, जिसकी दूरी कैंची धाम से लगभग 71 किलोमीटर है | पंतनगर पहुँचने के बाद कैंची मन्दिर पहुँचने के लिए आपको टैक्सी या स्थानीय बसों का प्रयोग करना पड़ेगा |

Nainital to Kainchi Dham

यदि आप उत्तराखंड में स्थित विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल घूमने का प्लान बना रहे हैं, तो कैंची धाम आश्रम आकर हनुमान जी के अवतार “नीम करोली बाबा” जी के दर्शन जरूर कीजिये | बाबा के दर्शन मात्र से ही भक्तों के सभी दुःख दूर हो जाते है | नैनीताल और कैंची धाम के बीच की दूरी लगभग 22 किलोमीटर है |

यह भी जानिये :- 

  1. Purnagiri Temple की मान्यताएं क्या हैं और यहाँ कैसे पहुंचें ?
  2. बद्रीनाथ मंदिर का इतिहास [History of Badrinath Temple in Hindi]
  3. Kasar Devi (कसार देवी) -उत्तराखंड का रहस्यमयी मंदिर

[su_divider top=”no”]

उम्मीद करते हैं कि नीम करोली बाबा जी के दिव्य आश्रम कैंची धाम से सम्बंधित उपरोक्त जानकारी आपको पसंद आई होगी और आशा करते हैं कि आप अपने जीवन में एक बार यहाँ आकर अवश्य बाबा के दर्शन करें ताकि आपके सभी दुःख आपसे दूर रहें | यदि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें | आर्टिकल को शेयर करने के लिए आप किसी भी social media platform का प्रयोग कर सकते हैं |

[su_divider]

 

Previous articleHanuman Dham Ramnagar – हनुमान जी को समर्पित भव्य मंदिर
Next articleTOP 5 Tourist Places in Uttarakhand

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here